Jul 29 2021 / 6:31 PM

नियम शिथिल हुए तो सरगुजा में भी निजी भूमि पर पेड़ लगाने उमड़ पडे़ किसान

रायपुर। सरगुजा जिले में विकास कार्यों के लोकार्पण और भूमि-पूजन कार्यक्रम में हितग्राही मधु चौधरी ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को बताया कि उन्होंने इस साल 5 एकड़ में वृक्षारोपण करने का निर्णय लिया है। मधु चौधरी ने बताया कि पूर्व में निजी भूमि के वृक्षों की कटाई के कड़े नियमों को लेकर मन में हिचक थी, जो नियमों को शिथिल किए जाने से अब दूर हो गई है। उन्होंने कहा की मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना शुरू होने के बाद उन्होंने अब पपीता, मेहंदी आदि वृक्ष भी लगाने का निर्णय लिया है। इसके लिए उन्हें वन विभाग से निरंतर मार्गदर्शन मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि सरगुजा बहुत ही सुंदर जिला है, जिसे हरा-भरा बनाए रखने की जरूरत है। वृक्षारोपण के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने उनसे कहा कि निजी भूमि पर लगाए जा रहे वृक्षों की कटाई के लिए भविष्य में किसी भी विभाग से अनुमति लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। केवल सूचना देने की आवश्यकता होगी।सरगुजा के ही श्री रामसुंदर राजवाड़े ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने इस साल 188 क्विंटल धान बेचा है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत 30 हजार 690 रुपये की पहली किस्त उन्हें प्राप्त हुई है। श्री रामसुंदर राजवाड़े ने बताया कि उन्होंने इस साल अपने खेत में चंदन और आम के पेड़ लगाने का निर्णय लिया है।

Spread the love

Chhattisgarh