Feb 25 2024 / 1:46 PM

बस और ट्रांसपोर्ट ड्राइवर की हड़ताल, इंदौर के पेट्रोल पंप पर उमड़ी भीड़, कई पंप पर तेल खत्म

Spread the love

इंदौर। बस और ट्रांसपोर्ट ड्राइवर्स की हड़ताल ने बड़ा रूप ले लिया है। हड़ताल के कारण इंदौर की रफ्तार पर ब्रेक लग गया है। पेट्रोल-डीजल सप्लाई ना होने के कारण शहर के 90 फीसदी पेट्रोल पंप बंद हो गए हैं। जो एक-दो खुले हैं उन पर लंबी लाइन लगी है। आलम ये है कि अगर 48 घंटे में हड़ताल नहीं टूटी तो पेट्रोल पंप सूखने लगेंगे। कुछ जगह पर इसका असर दिखने भी लगा है।

देवास रोड पर बने डिपो पर सुबह से हंगामा जारी है। पेट्रोल और डीजल के टैंक चलाने वाले ड्राइवर्स सुबह से वहां पर जुटकर विरोध कर रहे हैं। पूरे रास्ते में जाम लगा है। हालांकि कुछ बसों का संचालन हो रहा था लेकिन उन्हें भी रोक दिया बसों को रोकने के लिए आज सुबह गंगवाल बस स्टैंड पर बस ड्राइवर बसों को सड़क पर आड़ी खड़ी कर चक्का जाम कर दिया।

ड्राइवर्स का कहना है ये हड़ताल तब तक जारी रहेगी जब तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा। इसी के चलते आज इंदौर कलेक्टर ने बस संचालकों और ट्रांसपोर्ट संचालकों की मीटिंग बुलाई है। विरोध रोकने पर जिला प्रशासन जोर दे रहा है। इस मामले पर आज दोपहर में चर्चा की जाएगी साथ ही रास्ता भी निकाला जाएगा की क्या किया जा सकता है। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस मीटिंग के बाद हड़ताल रुक सकती है।

दरअसल, बस और ट्रांसपोर्ट ड्राइवर्स हिट एंड रन के नए कानून के तहत ये हड़ताल की जा रही है। केंद्र सरकार ने हिट एंड रन कानून को पास कर दिया है। इस नए कानून के जरिए हिट एंड मामले में वाहन चालक को 10 साल तक की सजा और सात लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। इस कानून को वाहन चालक काला कानून बता रहे हैं और इसमें संशोधन की मांग उठा रहे हैं।

Chhattisgarh