Jun 15 2021 / 9:32 PM

CSIR की बैठक में बोले पीएम मोदी- भारत दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहा है

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना की दूसरी लहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) सोसायटी के वैज्ञानिकों के साथ बैठक की। इस दौरान केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के मंत्री डॉ. हर्षवर्धन भी मौजूद रहे।

सोसायटी को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा आज भारत सतत विकास और क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखा रहा है। आज हम सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट तक, दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं, दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं।

इस दौरान पीएम मोदी ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत कोरोना वैक्सीन के निर्माण को लेकर भारतीय वैज्ञानिकों की तारीफ की। पीएम ने कहा कि हमारे वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और हेल्थ वर्कर्स ने विपरीत परिस्थितियों में जो काम किया है वो वाकई सराहनीय है।

पीएम मोदी ने इसके साथ-साथ पुलिस कर्मियों, सफाई कर्मियों और सभी कोरोना योद्धाओं का आभार जताया। उन्होंने कहा कि कई लोगों की जान बचाने के लिए देश उनका सदा आभारी रहेगा।

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना एक वैश्विक महामारी है और इस महामारी से लड़ने में हमारे देश के वैज्ञानिकों ने बहुत बड़ा योगदान दिया है। पीएम ने कहा कि इतिहास इस बात का गवाह है, जब जब मानवता पर कोई बड़ा संकट आया है तो विज्ञान ने और बेहतर भविष्य के रास्ते तैयार कर दिए हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि पिछली शताब्दी में जब विदेशों में कोई नया एक्सपेरिमेंट होता था तो भारत के वैज्ञानिकों तक उसे पहुंचने में कई साल लग जाते थे, लेकिन आज के समय में हमारे वैज्ञानिक दुनिया के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे वैज्ञानिक दुनिया के साथ उसी गति से काम कर रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत आज दुनिया को कोरोना की लड़ाई में ना सिर्फ मदद कर रहा है बल्कि रास्ता भी दिखा रहा है। पीएम ने कहा कि हम सॉफ्टवेयर से लेकर सैटेलाइट तक, दूसरे देशों के विकास को भी गति दे रहे हैं, दुनिया के विकास में प्रमुख इंजन की भूमिका निभा रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत एग्रीकल्चर से एस्ट्रॉनॉमी तक, वैक्सीन से वर्चुअल रियलिटी तक, बायोटेक्नालजी से लेकर बैटरी टेक्नालजीज तक, हर दिशा में आत्मनिर्भर और सशक्त बनना चाहता है। पीएम मोदी ने कहा कि भले ही कोरोना की वजह से इस संकल्प को हासिल करने में हमारी रफ्तार धीमी हो गई है।

Spread the love

Chhattisgarh