Jun 15 2021 / 8:39 PM

ट्विटर को मोदी सरकार का अंतिम नोटिस, कहा- नए नियमों का पालन करें…

नई दिल्ली। भारत में ट्विटर की मुश्किल दिनो दिन बढ़ती नजर आ रही है। अब मोदी सरकार ने ट्विटर को अंतिम नोटिस दी है। शनिवार को इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ट्विटर को नोटिस भेजा है। सरकार ने कहा है कि नए आईटी नियमों को मान लें और लागू करें, वरना अंजाम भुगतने को तैयार रहें।

मोदी सरकार ने कहा है कि ट्विटर इंडिया को नए नियमों का तुरंत पालन करने के लिए एक अंतिम नोटिस दिया गया है, जिसके विफल होने पर आईटी अधिनियम, 2000 की धारा 79 के तहत उपलब्ध देयता से छूट वापस ले ली जाएगी और ट्विटर आईटी अधिनियम और भारत के अन्य दंड कानून के अनुसार परिणामों के लिए उत्तरदायी होगा।

वहीं इससे पहले ट्विटर ने नए आईटी नियमों का पालन करने से इनकार कर दिया था। हालांकि गूगल और फेसबुक तथा व्हाट्सएप जैसी दिग्गज कंपनियों ने नए आईटी में निहित दिशानिर्देशों के अनुरूप वैधानिक अधिकारियों को नियुक्त करने पर सहमति पहले ही जता दी है। लेकिन ट्विटर ने नियमों का पालन करने से इनकार कर दिया था।

नए नोटिस में ट्विटर के अमेरिकी पते को भी इसमें शामिल किया गया है और यह जिम बेकर को भेजा गया है। जिसमें कहा गया है कि 26 मई 2021 को नियमों और अन्य शर्तों के मामले में नोटिस भेजी गई थी। फिर से 28 मई को और फिर 2 जून को नोटिस भेजी गई। IT मंत्रालय ने कहा है कि टिवटर की ओर से कोई स्पष्टीकरण मंत्रालय को नहीं मिला है।

बता दें कि नोटिस में कहा गया है कि, ट्विटर नए नियमों का पालन नहीं कर रहा है और ना ही उसकी तरफ से मुख्य शिकायत अधिकारी की पूरी जानकारी नहीं दी गई है। नोटिस में कहा गया है कि, ट्विटर ने नए नियमों के मुताबिक नोडल कांटैक्ट अधिकारी की भी अभी नहीं दी है। भारत में इसके लिए जो नियम बनाए किए गए हैं, उन नियमों का पालन ट्विटर को करना चाहिए। नोटिस के अनुसार, टिवटर ने जिस कानूनी फर्म को भारत में बताया गया है वह भी नियम के मुताबिक नहीं है।

गौरतलब है कि ट्विटर लगातार सरकार की नोटिस के बाद भी नए नियमों को मानने में आनाकानी कर रहा है। सरकार की तरफ से इससे पहले भी ट्विटर को नोटिस जारी किया जा चुका है। ट्विटर से कहा गया है कि, वह नए IT नियमों का पालन करे। लेकिन टिवटर लगातार इसमें देरी कर रहा है। सरकार ने कहा है कि तुरंत जरूरी नियमों का पालन किया जाए। इस संबंध में 5 जून को टिवटर को नोटिस दी गई है।

बता दें कि इससे पहले टूलकिट विवाद के दौरान ट्विटर के गुरुग्राम और दिल्ली स्थित दफ्तरों पर पुलिस ने छापा मारा। इस पर ट्विटर ने आरोप लगाया कि पुलिस उनके कार्यालय आकर धमकाने का प्रयास कर रही है। ट्विटर ने कहा कि, उसे अपने कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर चिंता है। ऐसे में सरकार की तरफ से जवाब दिया गया था कि, ट्विटर इधर-उधर की बात ना करते हुए नियमों के अधीन काम करे।

Spread the love

Chhattisgarh