Aug 09 2022 / 3:41 PM

हरियाली तीज 2022: जानिए महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि





Spread the love

हिंदू धर्म में सावन का महीना बेहद ही खास होता है और हर कोई इसका बेसब्री से इंतजार करता है। इस महीने में सावन के सोमवार का व्रत और रक्षाबंधन के साथ ही हरियाली तीज का भी विशेष महत्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार सावन माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरियाली तीज मनाई जाती है। जिसे कई क्षेत्रों में हर​तालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है। हरियाली तीज के दिन महिलाएं व्रत-उपवास करती हैं और अपने पति की लंबी आयु के लिए आशीर्वाद मांगती हैं। महिलाओं के लिए हरियाली तीज पर मायके से सिंजारा (सिंधारा) भी आता है।

तिथि और समय

तिथि- इस तीज को श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। इस साल ये दिन 31 जुलाई को पड़ रहा है। इसलिए इस बार हरियाली तीज 31 जुलाई 2022 रविवार को मनाई जाएगी।

समय- पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 6:30 मिनट से 8:33 मिनट तक है। वहीं प्रदोष पूजा का सही समय शाम 6:33 मिनट से लेकर रात 8:51 मिनट तक है।

महत्व

हरियाली तीज का दिन देवी पार्वती और भगवान शिव के साथ उनके मिलन को समर्पित किया जाता है, ऐसा माना जाता हैं कि इस दिन ही भगवान शिव ने माता पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। इसलिए भारतीय हिंदू धर्म की विवाहित महिलाओं के लिए इस व्रत का खास महत्व है।

इस दिन भारतीय महिलाएं नए पारंपरिक परिधानों और विभिन्न आभूषणों को पहनती हैं और अपने पति की लंबी उम्र, अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि के लिए प्रार्थना करती हैं।

विधि

मान्यता है कि इस दिन विवाहित महिलाओं को ‘निर्जला व्रत’ रखना चाहिए, इस दौरान उन्हें पूरे दिन पानी भी नहीं पीना चाहिए। इस दिन व्रत रखने वाली महिलाएं चंद्रमा की पूजा के बाद ही अपना व्रत तोड़ सकती है।

इस दौरान देवी पार्वती और भगवान शिव की मूर्तियों को एक साथ रख कर धार्मिक भजनों और गीतों के साथ पूजा की जाती है। ताकि त्योहार को पूर्ण आनंद और उत्साह के साथ मनाया जा सके। ऐसी भी मान्यता है कि विवाहित महिलाओं को अपने माता-पिता के घर हरियाली तीज करनी चाहिए।

Chhattisgarh