Jul 29 2021 / 6:40 PM

सेनेटरी नैपकिन के निर्माण से महिलाएं हो रही आर्थिक रूप से सशक्त

सुदूर वनांचल में कर रही हैं स्वास्थ्य जागरूकता का प्रसार

रायपुर। जशपुर जिले के कांसाबेल विकासखण्ड के ग्राम चंपाटोली की गुलाब स्व-सहायता समूह की सचिव श्रीमती मटिल्डा कुजूर ने बताया कि उनका समूह गौण खनिज न्यास मद की सहायता से प्राप्त राशि से सैनेटरी नैपकिन निर्माण का कार्य करता है, जिसकी बाजार में कीमत 25 रुपये प्रति पैकेट है । उन्होंने मुख्यमंत्री श्री बघेल को बताया कि उनके समूह ने 2 अक्टूबर गाँधी जयंती को नैपकिन निर्माण का कार्य शुरू किया था जिससे अब तक समूह को 50 हजार रुपये की आमदनी हुई है । समूह नैपकिन से होने वाले आय का आधा हिस्सा निर्माण के लिए आवश्यक सामग्री में खर्च करता है और आधी राशि समूह के सदस्यों को उनके परिश्रम के लिए भुगतान किया जाता है । अभी उनके पास एक हजार पैकेट बचे हैं। इसके अलावा उनका समूह मशरूम के उत्पादन से भी आय अर्जित कर महिलाओं के जीवन स्तर में सुधार हेतु प्रयासरत है और इसके सार्थक परिणाम भी सामने आने लगे हैं ।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने समूह के कार्यों की सराहना की साथ ही उन्हें इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए बधाई भी दिए । उन्होंने श्रीमती कुजूर से कहा कि वे आस-पास के ग्रामीण महिलाओं को भी इन कार्यों की जानकारी दें और उन्हें भी इन कार्यों से जुड़कर आर्थिक सशक्तिकरण में भागीदारी के लिए प्रेरित करें।

Spread the love

Chhattisgarh