Feb 06 2023 / 2:56 PM

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने ग्राम बेलरगांव में आयोजित भेंट-मुलाकात में की शिरकत

Spread the love

छत्तीसगढ़ महतारी के तैलचित्र पर माल्यार्पण एवं राज्य गीत के साथ की कार्यक्रम की शुरुआत

रायपुर। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज जिले के सिहावा विधानसभा प्रवास के दौरान बेलरगांव में आयोजित भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में शिरकत किए। इस दौरान उन्होंने छत्तीसगढ़ महतारी के तैलचित्र पर माल्यार्पण और राज्यगीत के साथ कार्यक्रम की शुरूआत की। मुख्यमंत्री द्वारा पूछे जाने पर नगरी के श्री झंकेश्वर साहू ने बताया कि उनकी 40 एकड़ जमीन है और उन्हें 4 लाख 80 हजार का ऋण माफी हुआ। उन्होंने ऋण माफी, धान विक्रय से मिले पैसों से गन्ने की खेती की, दो ट्रैक्टर खरीदा, बच्चों को शिक्षा दे रहे, पत्नी के लिए सोने का रानीहार लिया। श्री झंकेश्वर साहू ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहा कि उनके आने से किसानों की स्थिति में सुधार हुआ है और छत्तीसगढ़िया का मान बढ़ाया है।

मुख्यमंत्री को भेंट मुलाकात में श्री चुन्नीलाल साहू ने बताया कि उन्होंने अपने परिश्रम और 52 हजार खर्च करके पेड़ लगाया, उसे सुरक्षित भी रखा। उनकी मांग पर मुख्यमंत्री ने उन्हें एक लाख रुपये देने की घोषणा की, इस पर चुन्नीलाल ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। सांकरा के किसान श्री सुरेश साहू ने कहा कि उनके पास 18 पशु हैं। उन्होंने गोधन न्याय योजना का लाभ लेकर एक लाख 60 हजार का गोबर बेचा। इससे खेत में चार एकड़ जमीन पर ड्रीप लगाया, अभी सब्जी लगाए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब गोबर बेचकर भी पैसा कमाया जा सकता है। गौठान में काम के बारे में चर्चा के बीच श्रीमती अमरौतिन बाई नागवंशी ने कहा कि पहले खाद बना रहे थे। अब सुअर, मुर्गी पालन करके आय अर्जित कर रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से फेंसिंग करवाने की अपील की, जिस पर मुख्यमंत्री ने तुरंत सहमति दी। श्रीमति लक्ष्मी साहू ने बताया कि समूह के माध्यम से वे वनोपज की खरीदी करते हैं। इमली का एमएसपी ज्यादा है, तो उसकी खरीदी ज्यादा होती है। चरोटा का एमएसपी कम मूल्य 25 रुपए है, मार्केट में 35 रुपए है, तो चरोटा बाजार में बिक जाता है। इमली लघु वनोपज समिति में बेचते हैं, जिससे मुनाफा भी मिलता है। उन्होंने बताया कि पहले साल 19 हजार फिर 37 हजार रूपये मिला।

मुख्यमंत्री से वन अधिकार पट्टा के बारे में जिला पंचायत सदस्य श्री मनोज कुमार साक्षी ने कहा कि उनके दुर्गम क्षेत्र में बहुत विकास का कार्य हुए है। उन्होंने बताया कि नगरीय निकाय और अन्य में तीन पुरस्कार प्राप्त हुए हैं, आपसे तीन बार पुरस्कार ले चुका हूं। जिला स्तर पर अच्छा काम हुआ है। उन्होंने रिजर्व क्षेत्र में तेंदूपत्ता संग्रहण की मनाही है, उसके लिए मुआवजा की मांग की, जिसे मुख्यमंत्री ने पूरा करने का आश्वासन दिया।

स्वच्छता दीदी सुश्री कीर्ति साहू ने कहा कि मिशन क्लीन सिटी अंतर्गत कचरा कलेक्शन करते हैं। आय सृजन के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया। साथ ही मानदेय राशि में एक हजार रूपये बढ़ाया, इसके लिए भी धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री से बात करते हुए दिव्यांग बालिका ने सरकारी नौकरी देने की मांग की, इस पर मुख्यमंत्री ने प्रक्रिया के तहत आवेदन भरने का सुझाव दिया। श्री संतोष कुमार बघेल ने मुख्यमंत्री से कहा कि उनके बच्चे का इलाज हुआ है, बेटे का नाम भूपेश बघेल है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूपेश बघेल के योजना का लाभ भूपेश बघेल ने उठाया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि सबकी आय में वृद्धि करना मुख्य लक्ष्य है। विभिन्न आजीविका गतिविधियों के माध्यम से आय में वृद्धि हो रही है। हमने स्वास्थ के लिए विभिन्न योजनाएं लाई है, शिक्षा के लिए राशि दी, स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी स्कूल खोले, आज गरीब घर के बच्चे भी अंग्रेजी में बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि वे छत्तीसगढ़ी भाषा का भी ध्यान रख रहे हैं। छत्तीसगढ़ की संस्कृति को बढ़ावा देने का काम भी कर रहे हैं। आदिवासी संस्कृति को भी सरंक्षित करने का प्रयास किया, देवगुड़ी का विकास किया, स्थानीय त्योहारों में शासकीय अवकाश की घोषणा की। राम वनगमन पथ का लगातार विकसित कर रहे हैं। लोगों की आस्था और श्रद्धा को देखते हुए चंदखुरी, शिवरीनारायण और राजिम में भगवान राम की भव्य प्रतिमा की स्थापना की है।

इस अवसर पर प्रदेश की महिला एवं बाल विकास, समाज कल्याण मंत्री तथा जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमति अनिला भेड़िया, विधायक सिहावा डॉ. लक्ष्मी धु्रव, दिव्यांगजन बोर्ड रायपुर के अध्यक्ष श्री मोहन लालवानी श्री शरद लोहाना, पूर्व विधायक सिहावा श्रीमती अम्बिका मरकाम, विशेष सचिव छत्तीसगढ़ शासन श्री अंकित आनंद, खेल एवं युवा कल्याण विभाग की अपर मुख्य सचिव और जिले की प्रभारी सचिव श्रीमती रेणु जी पिल्ले, प्रभारी कलेक्टर श्रीमती प्रियंका महोबिया, पुलिस अधीक्षक श्री प्रशांत ठाकुर सहित बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

Chhattisgarh