Sep 27 2022 / 6:49 AM

बेयर अपने ‘सहभागी’ कार्यक्रम का विस्तार करते हुए सूक्ष्म उद्यमियों के लिए एक विशेष इकोसिस्टम तैयार करेगा, जिससे भारतीय कृषि क्षेत्र में दिखेगा बड़ा बदलाव

Spread the love

पिछले 3 साल में इस प्रोग्राम के तहत भारतभर में 4000 से अधिक सहभागियों का पंजीकरण हुआ है और अब फोकस महिलाओं एवं युवा एग्री-उद्यमियों के सशक्तिकरण पर है।

प्रोगाम को 24 राज्यों में ले जाया जाएगा।

बेयर सहभागी प्रोग्राम के तहत दिए जाते हैं ये अवसर-

एग्रोनॉमी के तमाम पहलू और बेयर के उत्पादों की तकनीकी जानकारी

प्रोग्राम के माध्यम से प्रोत्साहन अर्जित करना

कृषि में बदलाव लाते हुए ग्रामीण इलाकों में फसल की उत्पादकता बढ़ाना

नई दिल्‍ली। कृषि और हेल्थकेयर जैसे लाइफ साइंस के क्षेत्र की अग्रणी ग्लोबल कंपनी बेयर ने अपने ‘सहभागी’ कार्यक्रम की विस्तार योजना घोषित की है ताकि व्यापक कृषि तंत्र विकसित कर ग्रामीण महिलाओं और युवाओं का सशक्तिकरण किया जा सके। ‘बेयर सहभागी प्रोग्राम’ 2019 में लॉन्च किया गया था और आज इसके तहत भारतभर में 4000 से अधिक सहभागी शामिल किए जा चुके हैं। इस पहल के तहत ग्रामीण उद्यमियों को बेयर के साथ भागीदारी करने का अनूठा अवसर दिया जाता है ताकि वे बेयर की पहुंच किसानों तक बढ़ा सकें और नए समाधानों पर विचार करें।

सहभागी एक ग्रामीण सूक्ष्म उद्यमी विकास मॉडल पर आधारित है जिसमें किसानों, महिलाओं और युवाओं को सशक्त कर उन्हें सलाहकार बनाया जाता है और वे छोटे उत्पादकों को सही समाधान सुझाते हैं। सहभागी कार्यक्रम के विस्तार के तहत पूरे भारत में नए सहभागी जोड़कर किसानों के साथ एक मजबूत नेटवर्क बनाया जाएगा। इसमें 18 साल से अधिक उम्र के उन सभी युवाओं को जोड़ने का प्रयास किया जाएगा, जिन्हें कृषि की समझ है और वे स्मार्टफोन तक पहुंच रखते हैं। इस कार्यक्रम में युवा एग्री-उद्यमी को साथ लेने के अलावा बेयर को इस बात का भी अहसास है कि परिवार के अलावा कृषि की पूरी आपूर्ति श्रृंखला में महिलाओं की अहम भूमिका है। खरीददारी के मामलों में उनके निर्णय की भूमिका को देखते हुए उन्हें इस कार्यक्रम में भागीदार बनाना जरूरी है।

प्रोग्राम में डिजिटल टेक्नोलॉजी और स्मार्टफोन के प्रयोग से तेजी लाई जाएगी क्योंकि ये किसानों के साथ संपर्क का नया माध्यम बन चुके हैं। सहभागियों को स्थानीय कृषि परिस्थितियों के हिसाब से छोटे किसानेां को सही समाधान सुझाने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इस तरह छोटे किसानों को सहभागियों के सहयोग से बेयर के उत्पादों तक पहुंच दिलाई जाएगी। यह प्रोग्राम अभी 24 राज्यों के 470 से अधिक जिलों और 1980 उप-जिलों में सक्रिय रूप से चल रहा है।

प्रोग्राम के बारे में भारत, बंगलादेश और श्रीलंका के लिए बेयर के कंट्री डिविजनल प्रमुख-क्रॉप साइंस, साइमन- थॉर्सटेन वीबुश ने कहा, ”स्थानीय समुदायों के लिए खेती में बदलाव लाने के हमारे व्यापक प्रयासों के तहत हमारा मकसद सूक्ष्म उद्यमी को किसानों को सतत एवं उत्तरदायी खेती के अवसर उपलब्ध कराना तथा ग्रामीण उत्पादकता को सहारा देना है। बेयर इन सहभागियों के साथ मिलकर उनके गांवों में यह पूरा पारितंत्र विकसित करने का प्रयास करता रहेगा, जिससे कृषि-क्षेत्र में बेहतर और नई तकनीकों का विकास हो और अच्छी गुणवत्ता के उत्पाद प्राप्त किए जा सके। साथ ही बेयर के उत्पादों के बारे में तकनीकी जानकारी देकर किसानों को नई फसलों और उत्पादों की सलाह दी जा सके।”

बेयर ने ग्रामीण लोगो को अधिक जानकारी देने ओर सहभागी प्रोग्राम में पंजीकरण के लिए एक टोल फ्री नंबर 18001204049 भी शुरू किया है।

Chhattisgarh