Sep 27 2022 / 7:59 AM

दिल्ली में वर्चुअल स्कूल की शुरुआत, सीएम केजरीवाल बोले- हमें भारत को दुनिया का नंबर 1 देश बनाना है

Spread the love

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज हम दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन के तहत भारत का पहला वर्चुअल स्कूल ‘दिल्ली मॉडल वर्चुअल स्कूल’ की शुरुआत कर रहे हैं। आज से कक्षा 9 के नामांकन के लिए आवेदन शुरू किया जा रहा है। देश भर के छात्र इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

केजरीवाल ने अपने वीडियो संदेश में कहा कि हमें भारत को दुनिया का नंबर 1 देश बनाना है। केजरीवाल ने कहा कि हमने 75 साल बेकार कर दिए। भारत को शिक्षा के माध्यम से ही नंबर 1 देश बनाया जा सकता है। केजरीवाल ने आगे कहा कि जो मैं आज ऐलान करने वाला हूं उससे शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति आ जाएगा। केजरीवाल ने कहा कि आज हम देश का पहला वर्चुअल स्कूल शुरू करने जा रहे हैं।

केजरीवाल ने कहा कि देश के कई बच्चे कई कारणों से स्कूल जाकर पढ़ाई नहीं कर पाते हैं। हम भारत के सभी बच्चे तक शिक्षा पहुंचाने के लिए इस स्कूल की शुरुआत कर रहे हैं। वर्चुअल क्लास से प्रेरणा लेकर हमने यह शुरुआत की है। केजरीवाल ने कहा कि मेरा मानना है कि सभी बच्चों को स्कूल में शिक्षा मिलनी चाहिए लेकिन जिन बच्चों को किसी कारण से ऐसी सुविधा नहीं मिल पा रही है उनके लिए हमने ये स्कूल खोला है।

केजरीवाल ने कहा कि यह स्कूल ऑनलाइन चलेगी। अगर कोई बच्चा ऑनलाइन नहीं देख पा रहा है तो उसे रिकार्डिंग की भी व्यवस्था दी जाएगी। इस वर्चुअल स्कूल का नाम ‘दिल्ली मॉडल वर्चुअल स्कूल’ ( DMVS ) रहेगा।

‘दिल्ली मॉडल वर्चुअल स्कूल’ ( DMVS ) में नौवीं ले लेकर बारहवीं तक की पढाई होगी। केजरीवाल ने बताया कि आज से नौवीं के दाखिले की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। पूरे देश के छात्र इस स्कूल में एडमिशन ले सकते हैं। केजरीवाल ने यह स्पष्ट किया है कि यह स्कूल केवल दिल्ली के बच्चों के लिए नहीं है बल्कि यह पूरे देश के बच्चों के लिए है। एडमिशन के लिए छात्रों को www.dmvs.ac.in वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

केजरीवाल ने बताया कि तेरह साल से लेकर अठारह साल तक के छात्र जो आठवीं पास हैं वो एडमिशन ले सकते हैं। पढाई के साथ-साथ आगे की प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जाएगी। साथ ही स्किल के लिए भी काम किया जाएगा, जिससे बच्चों का कौशल विकास हो सके और उन्हें रोजगार मिल सके। छात्रों को डिजिटल लाइब्रेरी की भी सुविधा दी जाएगी। इसके लिए शिक्षकों को भी ट्रेनिंग दी जाएगी।

Chhattisgarh