Feb 29 2024 / 7:32 PM

आसियान-भारत शिखर सम्मेलन में भाग लेने जकार्ता पहुंचे पीएम मोदी, प्रवासी भारतीयों ने किया जोरदार स्वागत

Spread the love

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में आसियान-भारत समिट में हिस्सा लिया। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि यह 21वीं सदी एशिया की सदी है और वन अर्थ, वन फैमिली, वन फ्यूचर हम सबका मंत्र है। पीएम मोदी ने कहा कि वैश्विक अनिश्चितता के माहौल के बावजूद ‘हमारे आपसी सहयोग’ में लगातार बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि आसियान भारत की एक्ट ईस्ट नीति का केंद्रीय स्तंभ है।

पीएम मोदी ने कहा, हमारी साझेदारी चौथे दशक में प्रवेश कर रही है। ऐसे में इस शिखर सम्मेलन की सह-अध्यक्षता करना मेरे लिए प्रसन्नता की बात है। मैं इस शिखर सम्मेलन के आयोजन के लिए इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो को बधाई देना चाहता हूं।

उन्होंने कहा कि हमारा इतिहास और भूगोल भारत और आसियान को जोड़ते है। इसके साथ ही साझा मूल्य, क्षेत्रीय एकता, शांति, समृद्धि और एक बहुध्रुवीय दुनिया में साझा विश्वास भी हमें आपस में जोड़ता है। आसियान भारत की एक्ट ईस्ट पॉलिसी का केंद्रीय स्तंभ है। भारत के इंडो-पैसिफिक पहल में भी आसियान का प्रमुख स्थान है।

पीएम मोदी ने कहा, पिछले वर्ष हमने भारत-आसियान फ्रेंडशिप ईयर मनाया और इसे व्यापक रणनीतिक साझेदारी का रूप दिया। वैश्विक अनिश्चितताओं के माहौल में भी हर क्षेत्र में हमारे आपसी सहयोग में लगातार वृद्धि हो रही है। यह हमारे संबंधों की ताकत का प्रमाण है।

पीएम मोदी ने साथ ही यह भी कहा कि आसियान मायने रखता है, क्योंकि यहां सभी आवाज सुनी जाती है। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी को एशिया की सदी है। इस दौरान उन्होंने वन अर्थ, वन फैमिली, वन फ्यूचर का मंत्र भी दिया।

बता दें कि गुरुवार की सुबह पीएम मोदी इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता पहुंचे थे, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया। वहीं, होटल पहुंचने पर प्रवासी भारतीयों ने पीएम मोदी का जोरदार स्वागत किया। वह सुबह प्रधानमंत्री मोदी का वहां पहुंचने का इंतजार कर रहे थे।

Chhattisgarh