Dec 09 2022 / 7:07 AM

भ्रष्टाचार से निपटने के लिए संगठनों को रक्षात्मक होने की जरूरत नहीं: पीएम मोदी

Spread the love

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार रोधी एजेंसियों को अपना समर्थन दिखाते हुए गुरुवार को कहा कि भ्रष्टाचार से निपटने के लिए उन्हें रक्षात्मक होने की जरूरत नहीं है, भले ही कुछ ‘निहित स्वार्थ’ वाले लोग उन्हें गालियां और बदनाम करते रहें।

केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) द्वारा आयोजित ‘सतर्कता जागरूकता सप्ताह’ को संबोधित करते हुए, प्रधान मंत्री ने पैनल, अन्य एजेंसियों और अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित किया कि कोई भी भ्रष्ट व्यक्ति बख्शा नहीं जाए, चाहे वह व्यक्ति कितना भी शक्तिशाली क्यों न हो।

उन्होंने कहा कि यह सीवीसी जैसे संगठनों की जिम्मेदारी है कि किसी भी भ्रष्ट व्यक्ति को ‘राजनीतिक या सामाजिक शरण’ न मिले।

उन्होंने कहा,हर भ्रष्ट व्यक्ति को समाज द्वारा जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। ऐसा माहौल बनाना महत्वपूर्ण है। हम देख रहे हैं कि पहले से ही भ्रष्ट साबित लोगों के लिए पीन गाए जा रहे हैं। बिना किसी का नाम लिए मोदी ने कहा कि लोग भ्रष्ट लोगों के समर्थन में तर्क दे रहे हैं और उन्हें पुरस्कार देने की वकालत कर रहे हैं।

पीएम ने कहा, भ्रष्ट और भ्रष्टाचार के खिलाफ काम करने वाली सीवीसी जैसी एजेंसियों को रक्षात्मक होने की जरूरत नहीं है। अगर आप देश के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं, तो अपराधबोध में रहने की कोई जरूरत नहीं है।

Chhattisgarh