Dec 09 2022 / 8:14 AM

कानपुर में बोले मोहन भागवत- वाल्मीकि जी रामायण न लिखते तो दुनिया राम से परिचित नहीं होती

Spread the love

कानपुर। राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत रविवार को यूपी स्थित कानपुर पहुंचे। यहां आरएसएस प्रमुख ने महर्षि वाल्मीकि जन्मोत्सव कार्यक्रम में वाल्मीकि समाज के लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर वाल्मिकी जी रामायण न लिखते तो दुनिया कभी भी भगवान राम से परिचित नहीं होती। इसके साथ ही संघ प्रमुख ने वाल्मिकी समाज को देश की शान बताया है।

भागवत ने कानपुर में कहा कि बाबा साहब अंबेडकर ने संसद में देश को संविधान देते हुए कहा था कि अब तक जो पिछड़े माने जाते थे वो पिछड़े नहीं रहेंगे। वो सब बराबरी के साथ सभी लोगों के साथ बैठेंगे, हमने ऐसी व्यवस्था बना दी है। लेकिन सिर्फ व्यवस्था बनाने से कुछ नहीं होता, इसके लिए मन बदलना पड़ता है।

मोहन भागवत ने आगे कहा कि संविधान ने सभी को राजनीतिक और आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान की है, लेकिन बाबा साहेब का सपना तभी साकार होगा जब देश में सामाजिक स्वतंत्रता आएगी। इसलिए एक दूसरे डॉक्टर साहब ने साल 1925 में नागपुर से उस भाव को संघ के माध्यम से लाने का काम किया।

संघ प्रमुख ने आगे कहा कि अगर समाज का कोई अंग दुख में होगा तो समाज सुख में नहीं रह सकता है। हमें अच्छा होने के लिए पूरे समाज को भी अच्छा होने की आवश्यकता है। जब जो होना सही है अगर तब वही होगा और हम ऐसे ही आगे बढ़ते रहेंगे तो अगले 25-30 सालों में वाल्मीकि की एक ऐसी जयंती आएगी जिसे पूरी दुनिया याद करेगी।

Chhattisgarh