Dec 09 2022 / 8:58 AM

मल्लिकार्जुन खड़गे बने कांग्रेस के नए अध्यक्ष, शशि थरूर की करारी हार

Spread the love

नई दिल्ली। कर्नाटक के सीनियर नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को कांग्रेस का नया अध्यक्ष चुन लिया गया है। सीधे मुकाबले में खड़गे ने शशि थरूर को भारी मतों से हराया है। जहां मल्लिकार्जुन खड़गे को 7000 से अधिक वोट मिले, जबकि शशि थरूर को 1000 से अधिक मत प्राप्त हुए है। इससे पहले शशि थरूर ने चुनाव में धांधली का भी आरोप लगाया। हालांकि पहले से खड़गे की इस पद के लिए प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। खड़गे की जीत के बाद कांग्रेस दफ्तर के बाहर ढोल-नगाड़े बजाए गए।

वहीं खड़गे के कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव जीतने पर निवर्तमान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उनके घर जाकर बधाई दी। सोनिया गांधी ने उनकी पत्नी राधाबाई खड़गे से भी मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ प्रियंका गांधी वाड्रा भी मौजूद रही। बता दें कि 80 साल के खड़गे कांग्रेस के दलित नेता है। वो कर्नाटक से आते है और राज्य में उन्हें पोस्टर ब्वॉय भी कहा जाता है। 50 साल से अधिक राजनीति का अनुभव है। वो गांधी परिवार के काफी भरोसेमंद भी माने जाते है।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी मल्लिकार्जुन खड़गे को पार्टी का नया अध्यक्ष बनने पर बधाई दी। उन्होंने लिखा, कांग्रेस अध्यक्ष भारत की लोकतांत्रिक दृष्टि का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनका लंबा एक्सपीरियंस और वैचारिक प्रतिबद्धता पार्टी की अच्छी सेवा करेगी क्योंकि वे इस ऐतिहासिक जिम्मेदारी को निभाते हैं।

कर्नाटक के बीदर जिले के वारावत्ती में 12 जुलाई 1942 को खड़गे का जन्म हुआ था। किसान परिवार में जन्मे खड़गे ने गुलबर्गा से स्कूली शिक्षा, ग्रैजुएशन तक की पढ़ाई पूरी करने के बाद एलएलबी की और यहां वकालत करने लगे।

साल 1969 में खड़गे ने कांग्रेस पार्टी का हाथ थामा और तीन साल बाद 1972 में पहली बार कर्नाटक के गुरमीत विधानसभा सीट से विधायक चुने गए। बता दें कि इस सीट पर वे नौ बार विधायक चुने जा चुके हैं। कई बार कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार के दौरान उन्हें मंत्री भी बनाया गया।

2009 में खड़गे पहली बार गुलबर्गा से ही सांसद चुने गए। इसके बाद इस सीट से वे दोबारा सांसद बने। मनमोहन सिंह की सरकार वे में रेल मंत्री भी रह चुके हैं। फिलहाल, वे राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष के पद पर भी रहे हैं।

बता दें कि सोनिया और राहुल गांधी के इनकार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए पार्टी के कई सीनियर नेताओं के नाम सामने आए। सबसे पहले शशि थरूर, फिर अशोक गहलोत, कमलनाथ, दिग्विजय सिंह और आखिर में मल्लिकार्जुन खड़गे। मल्लिकार्जुन खड़गे को कांग्रेस अध्यक्ष पद का सबसे बड़ा दावेदार भी माना जा रहा था।

मल्लिकार्जुन खड़गे के नाम पर कांग्रेस के अधिकतर सीनियर नेता सहमत थे। खड़गे महादलित समुदाय से आते हैं। कांग्रेस के नेताओं का मानना था कि अगर किसी दलित नेता को अध्यक्ष बनाया जाता है तो फिर पार्टी देशभर में दलित और महादलित वोट बैंक को साध सकती है। खड़गे को अध्यक्ष बनाने का फायदा कर्नाटक समेत अन्य राज्यों में हाल में होने वाले विधानसभा चुनावों में मिल सकता है।

Chhattisgarh