Sep 27 2022 / 7:48 AM

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने विधानसभा में जीता विश्वास मत, पक्ष में पड़े 58 वोट

Spread the love

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में आज भारी हंगामे के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विश्वास मत को लेकर वोटिंग हुई। जिसमें प्रस्ताव के पक्ष में 58 विपक्ष में शून्य वोट पड़े। जिसके बाद विश्वास प्रस्ताव पास हो गया।

बता दें कि विधानसभा की उपाध्यक्ष राखी बिड़ला के साथ बहस करने के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) के 3 विधायकों को पूरे सत्र के लिए मार्शल की मदद से गुरुवार को बाहर निकाल दिया गया। बिड़ला ने विश्वास प्रस्ताव पर चर्चा से पहले ध्यानाकर्षण नोटिस लेने की उनकी मांग स्वीकार नहीं की, जिसके बाद विधायकों ने उनसे बहस की।

भाजपा के तीन विधायकों को मार्शल की मदद से बाहर निकाले जाने के बाद पार्टी के शेष विधायक भी सदन से उठ कर चले गए। आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने यह दिखाने के लिए सोमवार को विश्वास प्रस्ताव पेश किया था कि दिल्ली में भाजपा का कथित ‘ऑपरेशन लोटस’ विफल हो गया है। बिड़ला ने कहा कि विश्वास प्रस्ताव पर बहस और मतदान होने तक कोई ध्यानाकर्षण नोटिस नहीं लिया जाएगा।

विश्वास प्रस्ताव पास होने के बाद सीएम अरविंद केजरीवाल ने विधानसभा में कहा कि आज दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी का ऑपरेशन लोटस फेल हो गया। ये तकरीबन 10 राज्यों में 20 करोड़ में विधायक खरीद चुके हैं और इन्होंने दिल्ली में भी 40 विधायक खरीदने की कोशिश थी। केजरीवाल ने कहा कि 20 करोड़ कम नहीं होता लेकिन यहां कोई भी नहीं बिका।

सीएम केजरीवाल ने सदन में बताया कि आम आदमी पार्टी का एक विधायक अभी जेल में, एक कनाडा और तीसरा ऑस्ट्रेलिया में हैं। इसके बाद भी 58 वोट हमारे पक्ष में पड़े है।

Chhattisgarh