Aug 13 2022 / 5:45 AM

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022: जेरेमी लालरिनुंगा ने वेटलिफ्टिंग में जीता गोल्ड





Spread the love

नई दिल्ली। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के तीसरे दिन भी भारत की वेटलिफ्टिंग टीम का जलवा जारी है। बर्मिंघम में दूसरे दिन चार पदकों पर कब्जा जमाने के बाद आज यहां 67 कि.ग्रा में भारत के 19 वर्षीय जेरेमी लालरिननुंगा ने शानदार प्रदर्शन करते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। उन्होंने स्नेच राउंड में 140 कि.ग्रा और क्लीन एंड जर्क राउंड में 160 कि.ग्रा वजन के साथ कुल 300 कि.ग्रा भार उठाया। उन्होंने पहले स्नेच राउंड के बाद ही अपने प्रतिद्वंदियों पर 10 कि.ग्रा की बड़ी बढ़त बना ली थी।

एक तरफ जहां भारत की गोल्डन गर्ल मीराबाई चानू ने वेटलिफ्टिंग में देश को सोना दिलवाया तो वहीं, दूसरी तरफ खेल के इसी प्रारूप में संकेत महादेव ने सिल्वर और गुरूराजा ने कांस्य पदक जीता। इस हिसाब से वेटलिफ्टिंग में दूसरे ही दिन भारत की झोली में तीन अहम पदक आए। दूसरे दिन की समापन के बाद तीसरा यानी 31 जुलाई को मुक्केबाजी में शिवा थापा, निखत जरीन इसके अलावा स्क्वॉश में जोशना चिन्नप्पा और सौरव घोषाल से लेकर महिला क्रकेट टीम सभी पर नजरें टिकी रहेंगी

मिजोरम की राजधानी आइजोल से आने वाले 19 वर्षीय जेरेमी लालरिननुंगा ने अपने कॉमनवेल्थ डेब्यू पर ही इतिहास रचते हुए मेडल पर कब्जा जमाया। जेरेमी लालरिननुंगा का जन्म 26 अक्टूबर 2002 को हुआ था। जेरेमी के पिता लालमैथुआवा भी एक पूर्व मुक्केबाज है। खेल से जुड़े परिवार में पैदा हुए जेरेमी ने केवल 6 साल के उम्र से ही अपने पिता के साथ मुक्केबाजी सिखना शुरु कर दिया था, लेकिन 10 साल की उम्र में जेरेमी ने वेटलिफ्टिंग करना शुरु कर दिया।

केवल 14 साल के जेरेमी ने 2016 के विश्व युवा चैंपियनशिप में 56 किग्रा भार वर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर अपने करियर की शानदार शुरुआत की, फिर 2017 में कॉमनवेल्थ गोल्ड कोस्ट जूनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल हासिल किया। जेरेमी ने जूनियर एशियन चैंपियनशिप 2018 में ब्रॉन्ज मेडल और कॉमनवेल्थ वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप 2021 में पुरुषों के 67 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था।

Chhattisgarh