Oct 06 2022 / 11:09 PM

गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस के सभी पदों से दिया इस्तीफा, राहुल गांधी पर लगाए ये आरोप

Spread the love

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को अपनी प्राथमिक सदस्यता सहित पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया, जिससे संकट में घिरी पार्टी को एक और झटका लगा है। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस पार्टी के सर्वेसर्वा कहे जाने वाले गांधी परिवार को भी निशाने पर लिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पांच पन्नों के पत्र में उन्होंने कहा कि वह ऐसा भारी मन से कर रहे हैं। गुलाब नबी आजाद पिछले कुछ समय से पार्टी से नाराज चल रहे थे। इसके पहले उन्होंने जम्मू-कश्मीर के लिए बनाये गये अभियान समिति के अध्यक्ष पद से भी इस्तीफा दे दिया था।

बता दें कि कांग्रेस पार्टी की तरफ से उन्हें जिम्मेदारी मिलने के चंद घंटों बाद ही उन्होंने इससे अपना नाम वापस ले लिया था। गौरतलब है कि गांधी परिवार से बिफरे नेताओं में उनका नाम शीर्ष पर था। G-23 नामक ग्रुप में गुलाम नबी आजाद सबसे कद्दावर नेताओं में से एक थे। G-23 के माध्यम से उन्होंने कांग्रेस में बड़े बदलाव की मांग की थी लेकिन कांग्रेस आलाकमान ने उनकी सिफारिशों को नजरअंदाज कर दिया था।

बता दें कि गुलाम नबी आजादी ने कांग्रेस को अलविदा कहने के साथ ही सात पन्नों का इस्तीफा भी लिखा है, जिसमें उन्होंने गांधी परिवार को जमकर खरी खोटी सुनाई है।

वरिष्ठ राजनेता ने अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में राहुल गांधी की लीडरशिप पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्य से राजनीति में राहुल गांधी की एंट्री के बाद और खासतौर से जनवरी 2013 के बाद जब आपकी तरफ से उन्होंने उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया, तो पहले मौजूदा मंथन का पूरा तंत्र उन्होंने खत्म कर दिया।’ उन्होंने सरकारी अध्यादेश फाड़ने के किस्से का भी जिक्र किया।

उन्होंने लिखा कि राहुल गांधी की अपरिपक्वता का एक बड़ा उदाहरण मीडिया के सामने सरकारी अध्यादेश को फाड़ना था।

Chhattisgarh