Oct 06 2022 / 10:23 PM

कांग्रेस को बड़ा झटका, आजाद के समर्थन में जम्मू-कश्मीर के 64 नेताओं ने इस्तीफा दिया

Spread the love

नई दिल्ली। कांग्रेस से इस्तीफा दे चुके सीनियर नेता गुलाम नबी आजाद के समर्थन में कांग्रेस के कई नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। आजाद के समर्थन में पूर्व उप मुख्यमंत्री तारा चंद सहित जम्मू-कश्मीर के 64 कांग्रेस नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा दिया है। मिली जानकारी के मुताबिक, आजाद के समर्थन में इस्तीफा देने वालों में पूर्व मंत्री माजिद वानी, मनोहर लाल शर्मा, घारू चौधरी, पूर्व विधायक बलवान सिंह, जम्मू कश्मीर कांग्रेस के सचिव नरिंदर शर्मा और महासचिव गौरव मगोत्रा जैसे बड़े नेता हैं। ये सभी रविवार को आजाद के नेतृत्व वाली नई पार्टी में शामिल होंगे। इन सभी नेताओं ने गुलाम नबी की मौजूदगी में इस्तीफा दिया है।

इस मौके पर पूर्व उप मुख्यमंत्री तारा चंद का भी बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि हम इस बात से खुश हैं कि आजाद अपनी पार्टी बना रहे हैं। वर्ना कांग्रेस आलाकमान ने हमसे एक बार भी मिलने की कोशिश नहीं की। हमारी शिकायतों को पार्टी में कोई सुनने के लिए तैयार नहीं था। हमसे अन्य पार्टियों के नेताओं ने भी संपर्क किया है और वे भी जल्द हमारे साथ जुड़ेंगे।

तारा चंद (पूर्व डिप्टी सीएम), माजिद वानी (पूर्व मंत्री), बलवान सिंह (जम्मू कश्मीर कांग्रेस महासचिव) , घारू चौधरी (पूर्व मंत्री), मनोहर लाल शर्मा (पूर्व मंत्री), विनोद शर्मा, गुलाम हैदर मालिक, नरिंदर शर्मा, विनोद मिश्रा, परविंदर सिंह,मसूद, संतोष महनास, अराधना अंदोत्रा, वरुण मंगोत्रा, संतोष मनजोत्रा, रसपौल भारद्वाज, रेहाना अंजुम, नीरज चौधरी, तीरथ सिंह, राजदेव सिंह, सरनाम सिंह, अश्विनी शर्मा, अशोक भगत, जगतार सिंह, बद्री शर्मा, मदन लाल शर्मा, दलजीत सिंह, करनैल सिंह, काली दास, गोविंद राम शर्मा, करण सिंह, केवल कृष्ण, राम लाल भगत, कुलभूषण कुमार, देवेंद्र सिंह बिंदू, समेत 64 लोगों ने इस्तीफा दिया है।

गौरतलब है कि गुलाम नबी आजाद कांग्रेस नेतृत्व से नाराज होकर एक हफ्ते पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं और उन्होंने जम्मू कश्मीर में नई पार्टी के गठन का ऐलान किया है और वह यहां विधानसभा चुनाव में भी उतरेंगे। हालांकि जब उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा दिया था तो ये कयास लगाए जा रहे थे कि आजाद बीजेपी में शामिल हो सकते हैं, लेकिन आजाद से बीजेपी में शामिल होने की बात को सिरे से खारिज कर दिया था।

Chhattisgarh