Aug 09 2022 / 3:17 PM

तमिलनाडु: पलानीस्वामी के हाथ में अन्नाद्रमुक की कमान, चुना गया अंतरिम महासचिव





Spread the love

चेन्नई। तमिलाडु अन्नाद्रमुक पार्टी के भीतर मचा घमासान रुकने का नाम नहीं ले रहा है। पार्टी के दोनों शीर्ष नेताओं के बीच नेतृत्व को लेकर खींचतान जारी है। आज पार्टी की आम परिषद की बैठक का आयोजन किया गया। जहां इडापड्डी के पलानीस्वामी (ईपीएस) को अपना अंतरिम महासचिव निर्वाचित किया और उन्हें संगठन चलाने के लिए अधिकृत किया गया।

कार्यकारी समिति और आम परिषद की बैठक में अन्नाद्रमुक ने समन्वयक और संयुक्त समन्वयक पद को समाप्त करने संबंधी प्रस्ताव पारित किया। ये दोनों पद क्रमश: ओ पन्नीरसेल्वम और पलानीस्वामी के पास थे। पार्टी की बैठक में औपचारिक रूप से महासचिव का चुनाव करने के लिए संगठनात्मक चुनाव चार महीनों में कराने का संकल्प जताया गया। इसमें कई नियमों में भी संशोधन किए गए जिनमें पार्टी के शीर्ष पद महासचिव का चुनाव लड़ने के लिए कुछ नए नियम और पूर्व अनुमतियां शामिल हैं।

बैठक में कुल मिलाकर 16 प्रस्ताव अंगीकार किए गए। पन्नीरसेल्वम पार्टी के कोषाध्यक्ष हैं लेकिन पूर्व मंत्री एवं पार्टी के वरिष्ट नेता सी विजयभास्कर ने पार्टी के वित्त से जुड़े ब्योरे पेश किए, जिनसे संकेत मिलते हैं कि पन्नीरसेल्वम को जल्द ही पदमुक्त किया जा सकता है।

बता दें कि मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा ओपीएस की याचिका पर रोक लगाने की मांग को खारिज करने के बाद पार्टी बैठक का आयोजन किया गया था। इस दौराना दोनों गुटों के समर्थकों के बीच झड़प की खबरें भी सामने आई। बताया जा रहा है कि ओपीएस के समर्थकों ने पार्टी कार्यालय पर धावा बोलते हुए ईपीएस के खिलाफ नारेबाजी की।

ओ पन्नीरसेल्वम (ओपीएस) और एडप्पादी के पलानीस्वामी (ईपीएस), के बीच कई महीनों से पार्टी के वर्किंग फॉर्मेट को लेकर विवाद जारी है। ओपीएस की ओर से मौजूदा संयुक्त नेतृत्व मॉडल को जारी रखने के लिए जोर दिया जा रहा है। लेकिन ईपीएस को पार्टी जनरल के रूप में एकल नेतृत्व तलाश हैं।

Chhattisgarh