Jul 02 2022 / 2:34 PM

नृसिंह जयंती 2022: जानें शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और महत्व





Spread the love

नृसिंह जयंती वैशाख शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है। मान्यताओं और धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु ने नृसिंह के रूप में अवतार लिया था और हिरण्यकश्यप का वध किया था। साल 2022 में 14 मई को नरसिंह जयंती मनाई जाएगी। हिन्दू पंचांग के अनुसार वैशाख शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को नृसिंह जयंती मनाई जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार इसी दिन भगवान विष्णु ने अवतार लिया था और इस संसार में धर्म की स्थापना के लिए हिरण्यकश्यप का वध किया था।

इसलिए, इस दिन को पूरे देश में बहुत उत्साह के साथ नृसिंह जयंती के रूप में मनाया जाता है। नृसिंह अवतार में भगवान विष्णु आधे शेर और आधे मानव के रूप में अवतार लिया था। नृसिंह अवतार में उनका चेहरा और पंजे सिंह की तरह थे और शरीर का बाकी हिस्सा मानव की तरह था। आइए जानते हैं नृसिंह जयंती की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व के बारे में।

तिथि –

चतुर्दशी तिथि प्रारंभ: 14 मई 2022, शनिवार दोपहर 03:23 बजे
चतुर्दशी तिथि समाप्त: 15 मई 2022, रविवार दोपहर 12:46 बजे

पूजा मुहूर्त –

नृसिंह जयंती मध्याह्न संकल्प का शुभ समय: प्रात: 10:57 से दोपहर 01: 40 तक
नृसिंह जयंती सायंकाल पूजा समय: सायं 04: 22 से 07:05 तक ।
इन मुहूर्त काल में की गई पूजा से विशेष फल की प्राप्ति होती है।

महत्व –

नृसिंह जयंती को नरसिंह प्राकट्य दिवस के रूप से भी जाना जाता है। यह जयंती बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक मानकर मनाई जाती है। इस दिन को नृसिंह जी के भक्त पूजा और व्रत करते हैं। मान्यता है यदि नृसिंह जयंती के दिन आराधना और पूजन करने से समृद्धि, साहस और सफलता की प्राप्ति होती है।

पूजन विधि –

ब्रह्ममुहूर्त में पवित्र स्नान करके नए वस्त्रों को धारण करें।
पूजन से पूर्व पूजास्थल को साफ करें और विधिवत मूर्तियों या तस्वीरों की स्थापना करें।
जयंती के इस दिन नृसिंह जी के साथ साथ लक्ष्मी पूजन भी किया जाता है।
पूजा के समय और दिन के समय भी भगवान नरसिंह जी की आराधना करें।
पूजा के बाद देवताओं को नारियल, मिठाई, केसर और फलों का भोग लगाएं।
नृसिंह जयंती पर भगवान नरसिंह का व्रत सूर्योदय के समय आरंभ होकर सूर्योदय पर ही समाप्त हो जाता है। इस व्रत में अनाज का सेवन निषेध है।
शाम की पूजा के उपरांत तिल, भोजन और वस्त्र का दान करें। इससे पुण्य प्राप्त होता है।

Chhattisgarh