Jul 02 2022 / 2:22 AM

गुड़ी पड़वा 2022: जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व





Spread the love

तिथि के आधार पर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गुड़ी पड़वा मनाया जाता है। इस दिन चैत्र नवरात्रि का भी प्रारंभ होता है। गुड़ी पड़वा से नया संवत्सर प्रारंभ होता है। गुड़ी पड़वा को उगादी और संवत्सर पडवो भी कहते हैं। इसे मुख्यत: महाराष्ट्र, कर्नाटक, गोवा और आंध्र प्रदेश में मनाया जाता है। ये लोग गुड़ी पड़वा को नया साल के पहले दिन के रुप में मनाते हैं। इस दिन चैत्र नवरात्रि का प्रथम दिन होता है और मां दुर्गा की पूजा के लिए घरों में कलश स्थापना किया जाता है, उसके बाद मां शैत्रपुत्री की पूजा करते हैं।

तिथि-

गुड़ी पड़वा की तिथि – 2 अप्रैल 2022, दिन शनिवार।

शुभ मुहूर्त-

गुड़ी पड़वा प्रतिपदा तिथि प्रारंभ – 1 अप्रैल 2022, दिन शुक्रवार सुबह 11:53 मिनट से शुरू
गुड़ी पड़वा प्रतिपदा तिथि समाप्त – 2 अप्रैल 2022, दिन शनिवार रात 11:58 मिनट तक

महत्व-

मान्यता है कि गुड़ी पड़वा से ही ब्रह्मा जी द्वारा सृष्टि की रचना हुई थी। वहीं इसी दिन से सतयुग की शुरुआत भी हुई थी। यदि व्यक्ति गुड़ी पड़वा के दिन अपने घर के बाहर आम के पत्तों की तोरण लगाए तो बेहद ही शुभ मानते हैं। वहीं इस दिन मां दुर्गा और श्री राम भगवान की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इससे अलग कहा जाता है कि गुड़ी पड़वा के दिन खाली पेट पूरन पोली का सेवन करना चाहिए ऐसा करने से चर्म रोग की समस्या दूर हो सकती है।

Chhattisgarh