May 26 2022 / 9:53 AM

संघर्ष से बनाई अलग पहचान – अंशुमन तिवारी

उत्तराखंड की वादियों में एक बहुत ही खूबसूरत, सहज, शांत पर्यटक स्थल पर रहने वाले, देवों की भूमि से संस्कार लेकर सहजता के साथ संगीत की स्वर लहरियों से जीवन को संगीत के लिये समर्पित करने वाले इस युवा की दास्तां बड़ी ही दिलचस्प है। 25 वर्षीय अंशुमन तिवारी लोफी और रांझा लोफी को अपना सबसे पसंदीदा मानते हैं।

गीत संगीत की दुनिया में एक उभरता हुआ सितारा है अंशुमन तिवारी आज हम उसी के साथ खास मुलाकात! छोटी उम्र, बड़े अनुभव, बेहतरीन व्यक्तित्व। शब्दों के संवरते स्वरुप, सुरों की सरगम से स्वासों में खुशबू से महकाता यह कलाकार सुर संगीत के आसमान का चमकता हुआ सितारा है।

अपनी स्वांसों में संगीत की खुशबू लिये

तो आइए जानते हैं इस युवा दिलों पर राज करने वाले हरमन प्यारे गीत संगीत की मधुर स्वर लहरियों के साथ अपनी स्वांसों में संगीत की खुशबू लिये यह नौजवान हैं जॉलीग्रांट रानीपोखरी देहरादून उत्तराखंड के हैं अंशुमन तिवारी, इनकी माता मिथलेश तिवारी और पिता देवेंद्र प्रसाद तिवारी हैं। इस नौजवान की पहचान गिटारवादक, संगीतकार, लेखक के रुप है इसके दिल के करीब और बेहतरीन रचना है।

उत्तराखंड की वादियों में एक बहुत ही खूबसूरत, सहज, शांत पर्यटक स्थल पर रहने वाले, देवों की भूमि से संस्कार लेकर सहजता के साथ संगीत की स्वर लहरियों से जीवन को संगीत के लिये समर्पित करने वाले इस युवा की दास्तां बड़ी ही दिलचस्प है। 25 वर्षीय अंशुमन तिवारी लोफी और रांझा लोफी को अपना सबसे पसंदीदा मानते हैं।

गीतों को शब्दों से पिरोया, सुर और संगीत से सजाया

बीएससी. आईटी तक पढाई की लेकिन बचपन से ही संगीत के प्रति रुझान हुआ और बड़े-बड़े संगीतज्ञों को देखकर संगीत के प्रति समर्पित होता चला गया। पहले गीतों को शब्दों से पिरोया तो फिर उनको सुर दिये संगीत से सजाया। अंशुमन बोलते है कि उन्हें जब कोई बोलता है कि तुम्हारा गाना हमको बहुत पसंद है तो उत्साह वर्धन होने लगता है।

चाहने वालों का प्यार उनकी ताकत बन गया

यही उनके चाहने वालों का प्यार उनकी ताकत बन गया लेखन क्षमता दे गया। इसको लेकर एक पुस्तक की रचना की कनेक्टिंग म्यूजिक टू कल्चर पहाड़ों में रहकर संस्कृति सभ्यता के साथ खुद को जोड़ना और पुस्तक के रुप में लेखन का विस्तार करने की कार्यशैली अंशुमन का बेहतरीन रचनाकार संगीतकार के रुप में आगे बढाती चली गई। इस युवा की दिल की तमन्ना यही रही कि संगीत कैरियर में अच्छे-अच्छे गीतों की रचना करे और सुर संगीत के साथ लोगों के दिलों के करीब पहुंचे।

Chhattisgarh