May 29 2022 / 7:12 AM

पंजाब के पटियाला में भिड़े शिवसैनिक और खालिस्तान समर्थक, पथराव और तलवारबाजी के बाद तनाव





नई दिल्ली। पटियाला में शुक्रवार को मार्च निकालने पर बवाल हो गया। ऐतिहासिक श्री काली माता मंदिर के पास शिवसैनिक और खालिस्तानी समर्थक सिख संगठन आमने सामने हो गए। इस दौरान दोनों तरफ से जमकर पत्थर चले। पुलिस ने दोनों पक्षों को रोकने के लिए फायरिंग की। वहीं तलवार लगने से एक पुलिसकर्मी घायल हो गया। वहीं सीएम भगवंत मान ने पूरे वाकये पर चिंता जताई है और पुलिस को शांति बहाल करने के निर्देश दिए हैं।

पटियाला के आर्य समाज चौक में शुक्रवार को शिव सेना की ओर से तय कार्यक्रम के मुताबिक खालिस्तान का पुतला फूंक प्रदर्शन की तैयारी की जा रही थी। इसी बीच उस समय माहौल तनावपूर्ण बन गया. जब इसका पता लगते ही मौके पर खालिस्तानी समर्थकों ने पहुंच कर विरोध करना शुरू कर दिया। इस दौरान दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए।

हालांकि मौके पर मौजूद भारी पुलिस फोर्स ने समझा-बुझाकर दोनों पक्षों को शांत कर दिया। लेकिन इसके बावजूद खालिस्तानी समर्थक श्री काली माता मंदिर के अंदर तलवारें लेकर पहुंच गए। इस दौरान हिंदू नेताओं व खालिस्तानी समर्थकों के बीच खूब ईंट-पत्थर चले। एक हिंदू नेता पर तेजधार हथियार के साथ हमला भी हुआ।

गर्म ख्यालियों को रोकते वक्त एसएचओ कर्णवीर सिंह के हाथ पर तलवार भी लगी। एसएसपी डा. नानक सिंह ने स्थिति पर काबू पाने के लिए इस दौरान कईं राउंड फायर भी किए। गौरतलब है कि कुछ वेब चैनल एसएचओ का हाथ काटे जाने की खबर चला रहे हैं। जिसे डीसी साक्षी साहनी ने निराधार बताया है। डीएसपी ने बताया कि मौके पर पुलिस तैनात कर दी गई है। हम शिवसेना के प्रमुख हरीश सिंगला से बात कर रहे हैं क्योंकि उनके पास मार्च की अनुमति नहीं है।

वहीं इस पूरे मामले पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने ट्वीट कर कहा कि पटियाला में झड़प की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मैंने डीजीपी से बात की है, इलाके में शांति बहाल कर दी गई है। हम स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और किसी को भी राज्य में अशांति पैदा नहीं करने देंगे। पंजाब की शांति और सद्भाव अत्यंत महत्वपूर्ण है।

Chhattisgarh